Shayari & Quotes

Deep Gulzar Zindagi love Quotes Shayari in Hindi- Gulzar love life Quotes status in Hindi

इस पोस्ट में आपको Deep Gulzar Shayari की तरह की शायरी और चुटकुले मिलेंगे और आपका इसे अपने दोस्तों के साथ Share कर सकते हैं अगर आपका कोई सवाल है तो आप Comments Box में पुछा सकते हैं

बहुत मुश्किल से करता हूं तेरा यादों काकरोबार मुनाफा कम है गुजरात हो ही जाता है


love Gulzar Shayari in Hindi

तुझमें नाराज होकर तुझमें ही बात करने का मनये दिल का सिलसिला भीकभी ना समझ पाए हम


चांदी उगने लगी है बालों परये उम्र तुम पर हसीन लगती है


यदि सेल्फियो में इतनी ही सच्चाई होती तो वृद्धधाश्रम में बैठी येअसहाय मां न होती


राधा के सच्चे प्रेम का यही इनाम हैकान्हा से पहले लोग लेते राधा का नाम है


उनकी चाहत में हम कुछयूं बंधे हैं कि वो साथ भी नहींऔर हम अकेले भी नहीं


तकदीर को अपनी कुछ इसतरहां आजमाया है मैंने जो नहीं था तकदीर में उसेबेपनाह चाहा है मैंने


तलब इतनी कि तुम्हें अपना बना लूंहसरत इतनी कि इजाजत तुम दो


कोई ठुकरा दे तो हंसकर जी लेनामोहब्बत की दुनिया मेंजबरदस्ती नहीं होती


Deep Gulzar Zindagi love

तुम्हारे साथ किसी औरको नहीं सोचा बड़े ख्याल से रखा है तुम्हेअपने ख्यालों में


मैं क्यो पुकारू उसेकि लौट आओक्या उसे खबर नहीं किमेरे पास उसके सिवाय कुछ नहीं


ना जाहिर हुई तुमसेना बायन हुई मुझसेबस सुलझी हुई आंखों मेंउलझी रही मोहब्बत


तुमसे मिला था प्यारकुछ अच्छे नसीब थेहम उन दिनों अमीर थेजब तुम करीब थे


नहीं रहा जाता तेरे बिना इसलिए तुझसे बात करते हैं वरना हमें भी कोई शौक नहीं है तुझे यूं सताने का


आज भी तेरे सारे इल्लाज हम अपने पर ले लेते हैं ये कह कर कि वो बेवफा नहींहम ही बदनसीब है


खैरियत नहीं पूछते मेरीमगर खबर रखते हैं मैंने सुना है कि वो मुझ पर ही नजर रखते हैं


Dosti par Gulzar Shayari in Hindi

दिल में चुभ जाती है अपनों की ही बातें गैरों में इतना दम कहांकि आंखों में आसूं ला दे


मोहब्बत किसी से करनी हो तोहद में रहकर करना वरना किसी को बेपनाह चाहोगेतो टूटकर बिखर जाओगे


जहां से शुरू किया था सफर फिर वही खड़े हो गएअजनबी थे वो फिरअजनबी हो गए


कब मानी है इश्क ने पाबंदियांउसे तो होना है और वो होकर ही रहता है


जरा ठहरो तो नजर भर के देखूंजमीं पे चांद कहांरोज-रोज उतरता है


हम तो समझे थे किहम भूल गए हैं उनको क्या हुआ आज येकिस बात पे रोना आया


अगर तुम्हें अपना कहें तो तुम्हें शिकवा तो नहीं जमाना पूछता है बता तेरा अपना कौन हैं


छुए तो नहीं कभी किसी के पांवलेकिन वो जो पायल बांधनेको बोलेगी तो झुक जाऊंगा मैं


Zindagi love Quotes Shayari in Hindi

ये सच है कि कोई मरतानहीं किसी के लिएपर सच ये भी है कि कोईजीता है मर-मर के किसी के लिए


नादानी की हद है जरा देखो तो उसे मुझे खोकर वो मुझे जैसाही ढूंढ रही है


हम किसी को अपनी मर्जी से चाह तो सकते हैं लेकिन उससे ये नहींकह सकते कि तुममुझसे ही मोहब्बत करो


तुझे चाहा बहुत पर कभी जताया नहीं दोस्तों का रिश्ता भी ना को दूं इसलिए कभी बताया भी नहीं


जब किसी की रूह मेंउतर जाता है मोहब्बत का समंदरतब लोग जिन्दा तो होते हैं लेकिन किसी और के अंदर


दोस्त बदल गए वक़्त बदल गया मोहब्बत बदल गई बस मेरी प्यारी मां नहीं बदली


उसकी मोहब्बत का सिलसिला भी क्या अजीब था अपना भी नहीं बनाया और किसी का होने भी नहीं दिया


Deep Gulzar Shayari for friendship

ज़िक्र तेरा हुआ तोहम महफ़िल छोड़ आए हमें औरों के लबों पेतेरा नाम अच्छा नहीं लगता


भरी महफ़िल मेंदोस्ती का जिक्र हुआहमने तो सिर्फ आपकी ओर देखाऔर लोग वाह-वाह करने लगे


बहुत छुपा कर रखा था तेरी मोहब्बत का राज सबसे तेरी याद आते ही ये अश्क सब बयान कर देते हैं


इच्छाएं बड़ी बेवफा होती हैं कमबख्तपूरी होते ही बदल जाती है


इज़हार से नहीं लगता पता किसी के प्यार के इंतजारबताता है कि तलबगार कौन हैं

अगर कोई जोर देकर पूछेगा हमारी मोहब्बत की कहानीतो हम भी धीरे से कहेंगे मुलाकात को तरस गए


किसी ने थोड़ा सा अपना वक़्त दिया था मुझे मैंने आजतक उसे इश्क समझ कर संभाल रखा है


Gulzar love life Quotes status in Hindi

कुछ मोहब्बतें सही शख्स सेग़लत वक़्त पर ग़लत वक़्त परग़लत उम्र में हो जाती है


ठुकराया हमने भी बहुतो को है तेरे खातिर तुझसे फासला भी शायद उनकी बदद्दु आओं का असर है


बहुत तकलीफ़ होती है जब दोनों तरफ से प्याद हो लेकिन किस्मतमें मिलना ना हो


थोड़ा सुकून भी ढूंढिए जनाब ये जरूरतें तोकभी पूरी नहीं होगी Deep Gulzar Shayari


दूर रहकर भी वो शख्स सामाया है मेरी रूह के करीब रहने वालो पर वो कितना असर रखता होगा


मैं तुझसे अब कुछ नहीं मांगता ऐ खुदा तेरी दे केछीन लेने की आदता मुझे मंजूर नहीं.


deep love sad shayari of gulzar

नहीं मिला करो तुम जैसा आज तक पर ये सितम अगल है कि मिले तुम भी नहीं


किस मुकाम पर ले आई है ये तो हमे उसे पाया भी नहीं जाता और भुलाया भी नहीं जाता


मान लिया नहीं आता मुझे मोहब्बत जताना नादां तो तुम भी नहीं समझ न सको शायरियो में जिक्र तुम्हारा


क्यो करते हो मुझसे इतनी खामोश मोहब्बत लोग समझते हैं इस बदनसीब का कोई नही


भाई और बहन से प्यार में बस इतना अंतर है कि रुलाकर जो मना ले वो भाई है रुलाकर जो खुद रो पड़े वो है बहन


dosti friendship deep gulzar shayari

तुम्ही से रूठकर तुम्हें ही सोचते रहना मुझे तो ठीक से नाराज़ होना भी नहीं आता


ना पाया जिसे उसको खोना ही क्या जो था ही नहीं उसके पीछे रोना ही क्या


मां की जिद पर साड़ी आई दीदी की जिद पर घड़ी मेरी जिंदा पर घड़ी मेरी जिद पर पटाखे आए पता नहीं फिर क्यों पापा ही पुरानी कमीज में नरज आए


एक बार ही बहकती है नजर इश्क सौ बार नहीं होता यह दिल का सौदा है मेरी राधे हर बार नहीं होता


मुकम्मल ना सही अधूरा ही रहने दो इश्क इश्क है कोई मकसद तो नहीं


deep shayari gulzar

कितना खूबसूरत है उसका मेरा रिश्ता ना उसने कभी बांधा ना हमने कभी छोड़ा


याद रहेगा ये दौर हमको भी उम्र भर के लिए कितने तरसे है जिंदगी में एक शख्स के लिए


मैं चांद तोड़ के लाने से तो रहा वो जिद करेंगी तो एक आईना दे दूंगा


जिस फूल की परवरिश हमने अपनी मोहब्बत से की जब वो खुशबू के काबिल हुआ तो औरों के लिए महकने लगा


दुपटूटा क्या रख लिया सर पे वो दुल्हन नजर आने लगी उसकी तो अदा हो गई जान हमारी जाने लगी


यकीन तो सबको झूठ पर ही होता है सच को तो अक्सर साबित करना पड़ता है


2 lines deep meaning gulzar shayari

तू मिले या ना मिले ये मुकदूदर की बात है मगर सुकून बहुत मिलता है तुझे अपना सोचकर


जरा-जरा सी बात पर तकरार करने लगे हो लगता है मुझसे बेइंतहा प्यार करने लगे हो


ना कर याद अपनी हद में रह ऐ दिल वो बड़े लोग हैं अपनी मर्जी से याद करते हैं


चले आओ अजनबी बनकर फिर से मिले तुम मेरा नाम पूछो मैं तुम्हारा हाल पूछूं


deep shayari on life by gulzar

तू साथ ना सही पर हमेशा रहोगी एक वहज है एक वहज है तुझे बेवजह चाहने की


ये इश्क बनाने वाली की मैं तारीफ़ करता हूं मौत भी हो जाती है और कातिल भी नहीं पकडा जाता


फासलों का अहसास तब हुआ जब मैंने कहा ठीक हूं और उसने मान लिया


दोस्ती के बाद मोहब्बत हो सकती है मोहब्बत के बाद दोस्ती नहीं क्योंकि दवा मरने से पहले काम आती है मरने से बाद नहीं


दर्द भी वही देते हैं जिन्हें हक दिया जाता हो वर्ना गैर तो धक्का लगने पर भी माफी मांग लिया करते हैं

अगर आपको यह Deep Gulzar Shayari पसंद आया है तो आप इस अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ Share करके हमार हौसला बढ़ा सकते जिसे हम और इस तरह की शायरी ल सके आपके लिए

Shayari by Gulzar in Hindi

admin
My name is Vipin Gupta and I live in Mumbai, I am a college student and Technical Hindi.com is my website, in this I write articles related to Shayari, Quotes, Wishes and festival Shayari
https://technical-hindi.com

Leave a Reply